"Everybody is a genius. But if you judge a fish by its ability to climb a tree, it will live its whole life believing that it is stupid." – Albert Einstein

दबंग


किसी मंदबुद्धि मक्की की कलम से निकली हुई कहानी…कुछ पुराने और गवंई अंदाज के गानो की आधुनिक पैकेजिंग..मलाइका अरोडा की बेहोशी अदा और ज्यादा समय मूके और लात की मार…और इस मार के साथ ही निकलने वाली कानफाडू आवाज। कुल मिलाकर यही है दबंग की दबंगई। दरअसल ये दबंग की दबंगई नही है बल्कि फिल्म के प्रमोशन के रणनीतिकारों के दिमाग की दबंगई है।

मार धार सेक्स गाली गलौज बस यही सब है दबंग में !
अल्लाह मेहरबान तो गधहा पहलवान !
जब तक सलमान के फेन हैं तब तक एसी मूवी आती रहेगी !

One response

  1. amit verma

    maine Aaj tak dabaang jaisi ghatiya film nahi dekha.
    film ki kahani ek had tak thik hai lekin iss film me ham uss kirdar ko hiro mante hai jo karpted aur beiman hai.
    ye film janta ko galat message deta hai.

    November 9, 2010 at 6:56 PM

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s