"Everybody is a genius. But if you judge a fish by its ability to climb a tree, it will live its whole life believing that it is stupid." – Albert Einstein

फिक्सिंग


फिक्सिंग के मामले में भी वो "पाक-साफ़" है,
जितनी भी हो कमाई करे हाफ-हाफ है.

मुद्दत से ग़मज़दा थे, तरसते थे दाद को,
अब हर तरफ ख़ुशी है; अजी ळाऊघः-लाफ है.

टोटा रनों का पड़ गया, मुश्किल नहीं है दोस्त,
ख़ुद अपनी मअशियत का तो चढ़ता ग्राफ है.

अब फाख्ता उडाएंगे बन्ने मियाँ , हुज़ूर,
‘गिल्ली’* उड़ाना शान के अपनी खिलाफ है. [*बेल्स]

दब जाएगा ये ‘शौर’ ज़रा सब्र कीजिए,
‘तफ्तीश’ वाले साथ में लाये ‘लिहाफ’* है. [चादर]

बेकार दौड़-भाग* से हासिल नहीं है कुछ, [*रन]
‘पीटा’ नही किसी को तो चलिए "मुआफ" है.

नो-बॉल से भी रुख़ यहाँ पलटे है खेल का,
परवाह न कर वो ओण है या कि ओFF है.

-मंसूर अली हाशमी

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s