"Everybody is a genius. But if you judge a fish by its ability to climb a tree, it will live its whole life believing that it is stupid." – Albert Einstein

बुखारी सिरफिरा है!


बुखारी जैसे कुछ सिरफिरे लोगों के कारन ही पूरा मुस्लमान समाज संदेह के घेरे में आ जाता है. बुखारी जैसे लोग कभी नहीं सुधरेंगे. लेकिन जिस दिन इस देश में मजबूत हिन्दू साशन स्थापित हो जायेगा येही बुखारी अपनी वंशावली ढूँढकर लायेंगे और जमा मस्जिद के शीर्ष पर चढ़कर ये ऐलान करेंगे की उनके नाना का दादा का दादा फलां मंदिर का पुजारी था और वो तो अब भी वाही पुजारी का काम कर रहे हैं. जैसा की कुछ वर्ष पूर्व मध्य प्रदेश के तत्कालीन गवर्नर मरहूम कुंवर महमूद अली जी ने कहा था जब वो उज्जैन में देवी के प्राचीन मंदिर में दर्शन के लिए गए थे. जब पत्रकारों ने उनसे पूछा की मुस्लमान होकर भी आप मंदिर में क्यों जा रहे हो तो उन्होंने जवाब दिया की ये मंदिर यहाँ के परमार राजपूत राजाओं की कुलदेवी का मंदिर है और मैं परमार राजपूत राजाओं का वंशज हूँ अतः नैन तो अपने पूर्वजों के कुलदेवी के मंदिर के हालत का जाएजा लेने आया हूँ. उस समय मध्य प्रदेश में भाजपा के सुन्दरलाल पटवा की सर्कार थी. वैसे जिस दिन बुखार साहब दिल्ली में अपना ऐलान कर रहे थे उसी दिन मेरठ में राष्ट्रीय लोकतान्त्रिक पार्टी के अध्यक्ष मीर हसन ने अन्ना के आन्दोलन के समर्थन का ऐलान किया.प्रतिष्ठित इस्लामिक विद्वान् मौलाना वहीदुद्दीन तथा इमाम मुफ्ती मुकर्रम ने भी इसे देश हित में बताया है.आल इंडिया उलेमा कोंसिल के महासचिव महमूद दर्याबादी ने बुखारी की अपील को निजी विचार बताया है उन्होंने व्यंग करते हुए कहा की बुखारी एक बादशाह द्वारा बनवाई गयी मस्जिद के शाही इमाम हैं उनका साधारण मुसलमानों के विचारों से कोई मतलब या वास्ता नहीं है. हाकर मोहम्मद इरफ़ान ने भी अन्ना का समर्थन किया. मुम्बई में मुस्लिम एन जी ओ के प्रतिनिधियों ने मंगलवार को क्रेफोर्ड मार्केट से आजाद मदन तक रेल्ली निकलने का ऐलान किया.महारष्ट्र उर्दू लेखकों के गिल्ड ने बुखारी के गुमराह करने वाले बयान के लिए उसकी निंदा की. उन्होंने ये भी कहा की वन्देमातरम व भारत माता कीजै के नारे केवल वतन के वास्ते मुहब्बत दर्शाने का तरीका हैं.मुस्लमान मादरेवतन की इबादत बेशक न करते हों लेकिन मादरेवतन के लिए उनका जज्बा व मोहब्बत किसी से कम नहीं है. बुखारी अनावश्यक रूप से भ्रष्टाचार के खिलाफ जंग को मजहबी रंग दे रहे हैं, गिल्ड के अध्यक्ष सलाम बिन रजाक ने कहा.असल में अंग्रेजों ने फूट डालो और राज करो के मंत्र को अपने कांग्रेसी उत्तराधिकारियों को अच्छी तरह से पढ़कर गद्दी सौंपी थी जिसके कारन आजादी के बाद से जब भी कोई देश को जोड़ने का काम होता है कांग्रेसी अपना रंग दिखाना शुरू कर देते हैं और अपने एजेंटों के जरिये फूट डालने के प्रयास में जुट जाते हैं . सबने देखा है की आन्दोलन स्थल पर मुसलमानों के रोजा इफ्तारी तक का पूरा इन्तेजाम किया गया है. कभी स आन्दोलन को बाबासाहेब आंबेडकर के अपमान का नाम लेकर तोड़ने का प्रयास किया जाता है. दलित लेखकों का अपना अलग “ब्रेकिंग इंडिया” अभियान चलता रहता है. लेकिन सबसे अच्छी बात ये है की आम आदमी पर इनका कोई असर नहीं हो रहा है. यदि आम आदमी की ये जाग्रति टिक सकी तो ये देश के लिए संजीवनी बन सकेगी.उधर लखनऊ में भी शिया चाँद कमिटी के अध्यक्ष मौलाना सैफ अब्बास नकवी ने भी कहा है की भ्रष्टाचार विरोधी लडाई में अवाम के साथ उलेमाओं का भी पूरा समर्थन है. ईदगाह के नायब इमाम मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने भ्रष्टाचार विरोधी इस लड़ाई का समर्थन करते हुए कहा की देश से भ्रष्टाचार ख़त्म होना चाहिए. इसलिए जो इसकी लड़ाई लडेगा उलेमा उसके साथ हैं.आल इंडिया शिया पर्सनल ला बोर्ड के प्रवक्ता मौलाना यासूब अब्बास ने भी भ्रष्टाचार के विरुद्ध सख्त से सख्त कानून लागू करना होगा.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s